aarambh hai prachand
aarambh hai prachand
| |

aarambh hai prachand

“Aarambh Hai Prachand” is a Hindi song from the movie “Gulaal.” The lyrics convey the intensity and fervor of a beginning marked by chaos and revolution. The phrase “Aarambh Hai Prachand” translates to “The beginning is fierce,” encapsulating a spirit of unstoppable change. The lyrics evoke a sense of rebellion and upheaval, reflecting on the tumultuous nature of new beginnings and the powerful force that drives transformation. The song resonates with themes of passion, struggle, and the unstoppable momentum of change in the face of challenges.

आरंभ है प्रचंड

“आरंभ है प्रचंड” फिल्म “गुलाल” का एक हिंदी गाना है। गीत अराजकता और क्रांति द्वारा चिह्नित शुरुआत की तीव्रता और उत्साह को व्यक्त करते हैं। वाक्यांश “आरंभ है प्रचंड” का अनुवाद “शुरुआत भयंकर है” है, जो अजेय परिवर्तन की भावना को समाहित करता है। गीत विद्रोह और उथल-पुथल की भावना पैदा करते हैं, जो नई शुरुआत की अशांत प्रकृति और परिवर्तन को प्रेरित करने वाली शक्तिशाली शक्ति को दर्शाते हैं। यह गीत जुनून, संघर्ष और चुनौतियों के सामने परिवर्तन की अजेय गति के विषयों से गूंजता है।

aarambh hai prachand

aarambh hai prachand lyrics (original)

(आरंभ है प्रचंड लिरिक्स)

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड..

मन करे सो प्राण दे
जो मन करे सो प्राण ले
वोही तो एक सर्वशक्तिमान है
मन करे सो प्राण दे
जो मन करे सो प्राण ले
वोही तो एक सर्वशक्तिमान है

विश्व की पुकार है
ये भागवत का सार है
कि युद्ध ही तो वीर का प्रमाण है
कौरोवों की भीड़ हो या
पांडवों का नीड़ हो
जो लड़ सका है वो ही तो महान है

जीत की हवस नहीं
किसी पे कोई वश नहीं
क्या ज़िन्दगी है ठोकरों पे मार दो
मौत अंत है नहीं तो मौत से भी क्यूँ डरें
ये जाके आसमान में दहाड़ दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड..

वो दया भाव या कि शौर्य का चुनाव
या कि हार का वो घाव तुम ये सोच लो
वो दया भाव या कि शौर्य का चुनाव
या कि हार का वो घाव तुम ये सोच लो
या की पुरे भाल पे जला रहे विजय का लाल
लाल यह गुलाल तुम ये सोच लो
रंग केशरी हो या मृदंग केशरी हो
या कि केशरी हो ताल तुम ये सोच लो

जिस कवि की कल्पना में ज़िन्दगी हो प्रेम गीत
उस कवि को आज तुम नकार दो
भीगती मासों में आज, फूलती रगों में आज
आग की लपट का तुम बघार दो

आरंभ है प्रचंड बोले मस्तकों के झुंड
आज जंग की घड़ी की तुम गुहार दो
आन बाण शान या कि जान का हो दान
आज एक धनुष के बाण पे उतार दो

आरंभ है प्रचंड..
आरंभ है प्रचंड..
आरंभ है प्रचंड..

aarambh hai prachand lyrics (English)

aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
aaj jang kee ghadee kee tum guhaar do
aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
aaj jang kee ghadee kee tum guhaar do
aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan
aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
aaj jang kee ghadee kee tum guhaar do
aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan
aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

aarambh hai prachand..

man kare so praan de
jo man kare so praan le
vohee to ek sarvashaktimaan hai
man kare so praan de
jo man kare so praan le
vohee to ek sarvashaktimaan hai

vishv kee pukaar hai
ye bhaagavat ka saar hai
ki yuddh hee to veer ka pramaan hai
kaurovon kee bheed ho ya
paandavon ka need ho
jo lad saka hai vo hee to mahaan hai

jeet kee havas nahin
kisee pe koee vash nahin
kya zindagee hai thokaron pe maar do
maut ant hai nahin to maut se bhee kyoon daren
ye jaake aasamaan mein dahaad do

aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
aaj jang kee ghadee kee tum guhaar do
aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan
aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

aarambh hai prachand..

vo daya bhaav ya ki shaury ka chunaav
ya ki haar ka vo ghaav tum ye soch lo
vo daya bhaav ya ki shaury ka chunaav
ya ki haar ka vo ghaav tum ye soch lo
ya kee pure bhaal pe jala rahe vijay ka laal
laal yah gulaal tum ye soch lo
rang kesharee ho ya mrdang kesharee ho
ya ki kesharee ho taal tum ye soch lo

jis kavi kee kalpana mein zindagee ho prem geet
us kavi ko aaj tum nakaar do
bheegatee maason mein aaj, phoolatee ragon mein aaj
aag kee lapat ka tum baghaar do

aarambh hai prachand bole mastakon ke jhund
aaj jang kee ghadee kee tum guhaar do
aan baan shaan ya ki jaan ka ho daan
aaj ek dhanush ke baan pe utaar do

aarambh hai prachand..
aarambh hai prachand..
aarambh hai prachand..

Conclusion

“Aarambh Hai Prachand” lyrics express the powerful beginning of a revolutionary movement. The song symbolizes the unstoppable force of change, urging people to rise against oppression and injustice. The conclusion emphasizes the indomitable spirit of those seeking transformation, portraying a collective determination to overcome challenges. The lyrics inspire resilience, unity, and the unwavering pursuit of a better future, encapsulating the essence of a relentless struggle for justice and freedom.

निष्कर्ष

“आरंभ है प्रचंड” के बोल एक क्रांतिकारी आंदोलन की शक्तिशाली शुरुआत को व्यक्त करते हैं। यह गीत परिवर्तन की अजेय शक्ति का प्रतीक है, जो लोगों से उत्पीड़न और अन्याय के खिलाफ उठने का आग्रह करता है। निष्कर्ष चुनौतियों पर काबू पाने के लिए सामूहिक दृढ़ संकल्प को चित्रित करते हुए, परिवर्तन चाहने वालों की अदम्य भावना पर जोर देता है। गीत लचीलापन, एकता और बेहतर भविष्य की अटूट खोज को प्रेरित करते हैं, न्याय और स्वतंत्रता के लिए निरंतर संघर्ष का सार समाहित करते हैं।

Song: Aarambh hai Prachand
Movie: Gulal
Singer: Piyush Mishra

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *