shree hari stotram lyrics
shree hari stotram lyrics
|

shree hari stotram lyrics

Shree Hari Stotram lyrics is a devotional hymn praising Lord Vishnu. The lyrics express reverence for Vishnu, describing his divine qualities and role as the sustainer of the universe. Devotees seek his blessings for spiritual awakening and liberation. The stotram emphasizes devotion, surrender, and the omnipresence of the Lord. It serves as a powerful tool for connecting with the divine, fostering a deep sense of gratitude and humility towards Vishnu, the ultimate cosmic force.

श्री हरि स्तोत्रम लिरिक्स

श्री हरि स्तोत्रम भगवान विष्णु की स्तुति करने वाला एक भक्ति भजन है। गीत विष्णु के प्रति श्रद्धा व्यक्त करते हैं, उनके दिव्य गुणों और ब्रह्मांड के पालनकर्ता के रूप में भूमिका का वर्णन करते हैं। भक्त आध्यात्मिक जागृति और मुक्ति के लिए उनका आशीर्वाद चाहते हैं। स्तोत्र भक्ति, समर्पण और भगवान की सर्वव्यापकता पर जोर देता है। यह परमात्मा से जुड़ने, परम ब्रह्मांडीय शक्ति विष्णु के प्रति कृतज्ञता और विनम्रता की गहरी भावना को बढ़ावा देने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण के रूप में कार्य करता है।

shree hari stotram lyrics

shree hari stotram lyrics (original)

जगज्जालपालं चलत्कण्ठमालं शरच्चन्द्रभालं महादैत्यकालं नभोनीलकायं दुरावारमायं सुपद्मासहायम् भजेऽहं भजेऽहं ।

भावार्थः- कण्ठे चलमाला शरदचन्द्रसदृशं ललाटं घोरं राक्षसान्तं नीलाकाशसदृशं शरीरं श्रीहरिं विश्वरक्षकं पूजयामि , यस्य माया दुर्जेयः, यः पत्न्या सह पद्मया सह। अहं तं पूजयामि।

सदांबोधिवासं गलतपुष्पहीं:

सदाम्भोधिवासं गलत्पुष्पहासं जगत्सन्निवासं शतादित्यभासं गदाचक्रशस्त्रं लसत्पीतवस्त्रं हसच्चारुवक्त्रं भजेऽहं भजेऽहं ||

भावार्थः- सदा समुद्रे निवसन्तं, दन्तयोः श्वेतपुष्पाणि, लोके सद्भिः सह वसन्तं, शतसूर्यवत् उज्ज्वलं, गदाचक्रं च शस्त्रवत्, तेजस्वीम्, श्रीहरिं भजामि पीतवस्त्रं भवेत्, यस्य सुन्दरं मुखं स्मितं भवति। अहं तं पूजयामि।

रमाकण्ठहारं श्रुतिव्रातसारं जलान्तर्विहारं धराभारहारं चिदानन्दरूपं मनोज्ञस्वरूपं धुतानेकरूपं भजेऽहं भजेऽहं ||

भावार्थः- श्रुति-यूथ-सारं राम-कण्ठ-रमणीयं, आकाशं क्रीडाङ्गणं, पृथिव्याः भारं हरणं, विचारानन्दं जनयति, श्रीहरिं भजे। यस्य रूपं प्रियं, बहुरूपं च यस्य। अहं तं पूजयामि।

जराजन्महीनं परानन्दपीनं समाधानलीनं सदैवानवीनं जगज्जन्महेतुं सुरानीककेतुं त्रिलोकैकसेतुं भजेऽहं भजेऽहं ।

भावार्थ-जरा-जन्म-विहीनं, परमानन्द-पूर्णं, आत्मनः यथार्थ-स्वभावे मनः नियतं, नित्यं नवीनं, संसार-जन्मं श्री हरिं भजे।, को देवसेनायाः दीप्ततारकं त्रिलोकसेतुः। अहं तं पूजयामि।

कृताम्नायगानं खगाधीशयानं विमुक्तेर्निदानं हरारातिमानं स्वभक्तानुकूलं जगद्‌द्रुक्षमूलं निरस्तार्तशूलं भजेऽहं भजेऽहं || 5॥

भावार्थ – आम्नया गायितं, यस्य वाहनं पक्षिराजं, मुक्तिप्रधानं, शत्रुगर्वहरणं, भक्तसौहृदं, यस्य उत्पत्तिः The जगदुःखं वृक्षमिव जीवनकण्टकानि च हरति। अहं तं पूजयामि।

समस्तामरेशं द्विरेफाभकेशं जगद्विम्बलेशं हुदाकाशदेशं सदा दिव्यदेहं विमुक्ताखिलेहं सुवैकुण्ठगेहं भजेऽहं भजेऽहं 6॥

भावार्थ – श्रीहरिं सर्वामृतेश्वरं, श्यामकेशं, गोल-लोकस्य लघुतमं भागं, यस्य आत्मा आकाशः, यस्य शरीरस्य सदा दिव्यः, यः अस्मिन् सर्वस्य निर्माता अस्ति, तस्य श्रीहरिं भजे जगत्।यः अशुभः, यः वैकुण्ठे वसति। अहं तं पूजयामि।

सुरलिबलिसुरालिबलिष्ठं त्रिलोकीवरिष्ठं गुरूणां गरिष्ठं स्वरूपैकनिष्ठं सदा युद्धधीरं महावीरवीरं महाम्भोधितीरं भजेऽहं भजेऽहं 7॥

भावार्थ- सुराशत्रुभ्यः अधिकशक्तिमान्, श्रेष्ठेभ्यः श्रेष्ठं, केवलमेकरूपेण स्थितं, युद्धे सदा स्थिरं, वीरतरं श्रीहरिं भजामि विशालः.अपि वीरतरं, महासागरतीरेषु स्थितं च । अहं तं पूजयामि।

shree hari stotram lyrics (Sanskrit and Hindi meaning )

(संस्कृत एवं हिन्दी अर्थ )

(संस्कृत) जगज्जालपालं चलत्कण्ठमालं शरच्चन्द्रभालं महादैत्यकालं

(हिंदी) संसार के जाल का संरक्षक, गतिशील हार, पतझड़ का चंद्रमा धारण करने वाला, महान दानव का समय

(संस्कृत) नभोनीलकायं दुरावारमायं सुपद्मासहायम् भजेऽहं भजेऽहं ।

(हिंदी) मैं उसकी पूजा करता हूं जिसका शरीर आकाश में नीला है और जिस पर काबू पाना मुश्किल है।

(संस्कृत) भावार्थः- कण्ठे चलमाला शरदचन्द्रसदृशं ललाटं घोरं राक्षसान्तं नीलाकाशसदृशं शरीरं श्रीहरिं विश्वरक्षकं पूजयामि , यस्य माया दुर्जेयः, यः पत्न्या सह पद्मया सह। अहं तं पूजयामि।

(हिंदी) अर्थ: मैं ब्रह्मांड के रक्षक श्री हरि की पूजा करता हूं, जिनकी माया अजेय है, जिनका माथा शरद ऋतु के चंद्रमा के समान है, जिनका शरीर नीले आकाश के समान है, जिनकी माया अजेय है, जो अपनी पत्नी पद्मा के साथ हैं। मैं उसकी पूजा करता हूं.

(संस्कृत) सदांबोधिवासं गलतपुष्पहीं:
(हिंदी) सदाम्बोधिवासं गलतपुष्पहिं:

(संस्कृत) सदाम्भोधिवासं गलत्पुष्पहासं जगत्सन्निवासं शतादित्यभासं गदाचक्रशस्त्रं लसत्पीतवस्त्रं हसच्चारुवक्त्रं भजेऽहं भजेऽहं ||

(हिंदी) मैं उसकी पूजा करता हूं जो हमेशा समुद्र में रहता है, जो गलत फूलों पर मुस्कुराता है, जो दुनिया में रहता है, जो सैकड़ों सूर्यों की तरह चमकता है, जो एक गदा और पहिया रखता है, जो चमकदार पीला वस्त्र पहनता है, जिसका सुंदर चेहरा मुस्कुराता है

(संस्कृत) भावार्थः- सदा समुद्रे निवसन्तं, दन्तयोः श्वेतपुष्पाणि, लोके सद्भिः सह वसन्तं, शतसूर्यवत् उज्ज्वलं, गदाचक्रं च शस्त्रवत्, तेजस्वीम्, श्रीहरिं भजामि पीतवस्त्रं भवेत्, यस्य सुन्दरं मुखं स्मितं भवति। अहं तं पूजयामि।

(हिंदी) अर्थ: मैं श्री हरि की पूजा करता हूं, जो हमेशा समुद्र में निवास करते हैं, जिनके दांतों में सफेद फूल होते हैं, जो संसार में सज्जनों के साथ रहते हैं, जो सैकड़ों सूर्यों के समान उज्ज्वल हैं, और जिनकी गदा और चक्र हथियारों के समान तेजस्वी हैं। मैं उसकी पूजा करता हूं.

(संस्कृत) रमाकण्ठहारं श्रुतिव्रातसारं जलान्तर्विहारं धराभारहारं चिदानन्दरूपं मनोज्ञस्वरूपं धुतानेकरूपं भजेऽहं भजेऽहं ||

(हिंदी) मैं राम के हार की पूजा करता हूं, श्रवण के बवंडर का सार, जल के हार की, पृथ्वी के बोझ की हार की, चेतना के आनंद के रूप की, सुखद रूप की, धुले हुए रूप की, मैं पूजा करता हूं

(संस्कृत) भावार्थः- श्रुति-यूथ-सारं राम-कण्ठ-रमणीयं, आकाशं क्रीडाङ्गणं, पृथिव्याः भारं हरणं, विचारानन्दं जनयति, श्रीहरिं भजे। यस्य रूपं प्रियं, बहुरूपं च यस्य। अहं तं पूजयामि।

(हिंदी) अर्थ: मैं श्रवण के यौवन के सार, राम के कंठ के आनंद, आकाश, खेल के मैदान, पृथ्वी के बोझ को दूर करने वाले, विचार के आनंद, श्री हरि की पूजा करता हूं। जिसका रूप मनभावन है, और जिसके अनेक रूप हैं। मैं उसकी पूजा करता हूं.

(संस्कृत) जराजन्महीनं परानन्दपीनं समाधानलीनं सदैवानवीनं जगज्जन्महेतुं सुरानीककेतुं त्रिलोकैकसेतुं भजेऽहं भजेऽहं ।

(हिंदी) मैं उस परम भगवान की पूजा करता हूं, जो बुढ़ापे और जन्म से मुक्त है, जो पारलौकिक आनंद के लिए प्यासा है, जो हमेशा नया है और जो ब्रह्मांड के जन्म का कारण है।

(संस्कृत) भावार्थ-जरा-जन्म-विहीनं, परमानन्द-पूर्णं, आत्मनः यथार्थ-स्वभावे मनः नियतं, नित्यं नवीनं, संसार-जन्मं श्री हरिं भजे।, को देवसेनायाः दीप्ततारकं त्रिलोकसेतुः। अहं तं पूजयामि।

(हिंदी) अर्थ: मैं श्री हरि की पूजा करता हूं, बुढ़ापे और जन्म से रहित, परम आनंद से परिपूर्ण, स्वयं की वास्तविक प्रकृति में स्थिर, हमेशा नए, दुनिया से जन्मे। जो तीनों लोकों का पुल है, चमकता सितारा है देवताओं की सेना? मैं उसकी पूजा करता हूं.

(संस्कृत) कृताम्नायगानं खगाधीशयानं विमुक्तेर्निदानं हरारातिमानं स्वभक्तानुकूलं जगद्‌द्रुक्षमूलं निरस्तार्तशूलं भजेऽहं भजेऽहं || 5॥

(हिंदी) मैं उनकी पूजा करता हूं जो वेदों की ऋचाएं गाते हैं, जो पक्षियों के स्वामी पर बैठते हैं, जो मुक्ति के निदानकर्ता हैं, जो सबसे महान हैं, जो अपने भक्तों के अनुकूल हैं, जो इस वृक्ष की जड़ हैं ब्रह्मांड, जो दुख के त्रिशूल को दूर करता है 5॥

(संस्कृत) भावार्थ – आम्नया गायितं, यस्य वाहनं पक्षिराजं, मुक्तिप्रधानं, शत्रुगर्वहरणं, भक्तसौहृदं, यस्य उत्पत्तिः The जगदुःखं वृक्षमिव जीवनकण्टकानि च हरति। अहं तं पूजयामि।

(हिंदी) अर्थ: यह अम्ना द्वारा गाया गया है, जिसका वाहन पक्षियों का राजा, मुक्ति का प्रमुख, शत्रु के घमंड को नष्ट करने वाला, भक्त का मित्र है, जिसकी उत्पत्ति दुनिया के दुखों और कांटों को दूर करती है जीवन एक पेड़ की तरह. मैं उसकी पूजा करता हूं

(संस्कृत) समस्तामरेशं द्विरेफाभकेशं जगद्विम्बलेशं हुदाकाशदेशं सदा दिव्यदेहं विमुक्ताखिलेहं सुवैकुण्ठगेहं भजेऽहं भजेऽहं 6॥

(हिंदी) मैं उन सभी देवताओं के भगवान की पूजा करता हूं, उनके दो पंखों के बालों की तरह बाल, ब्रह्मांड के भगवान, आकाश का निवास, दिव्य शरीर, सभी का मुक्त शरीर, सुंदर वैकुंठ का निवास, मैं उनकी पूजा करता हूं।

(संस्कृत) भावार्थ – श्रीहरिं सर्वामृतेश्वरं, श्यामकेशं, गोल-लोकस्य लघुतमं भागं, यस्य आत्मा आकाशः, यस्य शरीरस्य सदा दिव्यः, यः अस्मिन् सर्वस्य निर्माता अस्ति, तस्य श्रीहरिं भजे जगत्।यः अशुभः, यः वैकुण्ठे वसति। अहं तं पूजयामि।

(हिंदी) अर्थः मैं श्री हरि की पूजा करता हूं, जो सभी अमृतों के स्वामी हैं, काले बालों वाले हैं, गोल दुनिया का सबसे छोटा हिस्सा हैं, जिनकी आत्मा आकाश है, जिनका शरीर हमेशा दिव्य है, जो इस सब के निर्माता हैं। मैं उसकी पूजा करता हूं.

(संस्कृत) सुरलिबलिसुरालिबलिष्ठं त्रिलोकीवरिष्ठं गुरूणां गरिष्ठं स्वरूपैकनिष्ठं सदा युद्धधीरं महावीरवीरं महाम्भोधितीरं भजेऽहं भजेऽहं 7॥

(हिंदी) अर्थ: जो देवताओं के शत्रुओं से भी अधिक शक्तिशाली हैं, सर्वश्रेष्ठ से भी श्रेष्ठ हैं, जो एक ही रूप में खड़े हैं, जो युद्ध में सदैव स्थिर रहते हैं, जो विशाल से भी अधिक वीर हैं, मैं उन भगवान हरि की पूजा करता हूँ। मैं उसकी पूजा करता हूं.

Conclusion

The “Shree Hari Stotram” is a devotional hymn praising Lord Vishnu. The lyrics extol His divine qualities, emphasizing His omnipresence, omniscience, and omnipotence. The conclusion reiterates devotion to Lord Hari, expressing gratitude for His grace and seeking His blessings for spiritual enlightenment and liberation. The stotram encapsulates a profound reverence for Vishnu, fostering a deep connection between the devotee and the divine, ultimately aiming for spiritual realization and transcendence.

निष्कर्ष

“श्री हरि स्तोत्रम” भगवान विष्णु की स्तुति करने वाला एक भक्ति भजन है। गीत उनके दिव्य गुणों की प्रशंसा करते हैं, उनकी सर्वव्यापकता, सर्वज्ञता और सर्वशक्तिमानता पर जोर देते हैं। निष्कर्ष भगवान हरि के प्रति समर्पण को दोहराता है, उनकी कृपा के लिए आभार व्यक्त करता है और आध्यात्मिक ज्ञान और मुक्ति के लिए उनका आशीर्वाद मांगता है। स्तोत्रम विष्णु के प्रति गहरी श्रद्धा को व्यक्त करता है, भक्त और परमात्मा के बीच गहरे संबंध को बढ़ावा देता है, अंततः आध्यात्मिक प्राप्ति और अतिक्रमण का लक्ष्य रखता है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *